Home Cricket जब शेन वॉर्न ने कहा था- ‘पैसे वापस लेलो, मैं राजस्थान रॉयल्स...

जब शेन वॉर्न ने कहा था- ‘पैसे वापस लेलो, मैं राजस्थान रॉयल्स छोड़ रहा हूँ’

आईपीएल 2022 का फाइनल मुकाबला अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में खेला गया। ये मुकाबला 29 मई रविवार को रात 8 बजे से शुरु हुआ। जहां गुजरात टाइटंस और राजस्थान रॉयल्स एक दूसरे के आमने सामने थी। मैच का टॉस जीतकर आरआर ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया।

साल 2008 के बाद एक बार फिर से आरआर खिताब जीतने के फिराक में थी। क्योंकि टीम एक बार फिर से खिताब जीतकर शेन वॉर्न को श्रद्धांजलि देना चाहती थी। क्योंकी आईपीएल के पहले सीजन 2008 में शेन वॉर्न की कप्तानी में टीम ने खिताब हासिल किया था।

आईपीएल 2008 की शुरुआत से पहले एक समय ऐसा भी आया था, जब शेन वॉर्न ने राजस्थान रॉयल्स को छोड़ने की ठानी था। उन्होंने अपनी आत्मकथा में उन्होंने इस बात का जिक्र भी किया है।

हुआ यूं कि आईपीएल 2008 से पहले 10 दिन का कैंप आयोजित किया गया था। उस कैंप में रवींद्र जडेजा और स्वप्निल असनोदकर ने टीम मैनेजमेंट एवं वॉर्न को काफी प्रभावित किया था।

दरअसल राजस्थान टीम के मालिक मनोज बदाले 16 सदस्यो की टीम में एक और खिलाड़ी शामिल करना चाहते थे। जिसे शेन वॉर्न ने आसिफ नाम से संबोधित किया। हालाकि आसिफ ने शेन को कुछ खास आकर्षित नहीं किया। और शेन वॉर्न इसे लेकर काफी सख्त थे।

जिसके चलते बात यहां तक आ गई, की शेन ने साफ साफ कह दिया की अगर टीम में आसिफ को लिया जाता है। तो मैं टीम छोड़ दूंगा और सारे पैसे भी लौटा दूंगा।

वार्न ने अपनी आत्मकथा में लिखा है, अगर मैं आसिफ को टीम में शामिल करता तो वह समझ जाएंगे कि एक खिलाड़ी जो उतना काबिल भी नहीं था और वह भी टीम में है। इसका सीधा सा आशय है कि किसी खास प्लेयर को फेवर किया जा रहा है।

अगर आप आसिफ को टीम में चाहते हैं तो ठीक है मैं आपके पैसे वापस दे दूंगा और मैं राजस्थान का हिस्सा नहीं बनूंगा। इस बात पर RR के मालिक मनोज ने कहा कि क्या आप सीरियस हैं, जिसके जवाब में मैंने कहा कि बहुत ज्यादा, मुझे इस फैसले पर अडिग रहने दीजिए।

जिसके बाद बड़ाले ने आसिफ को टीम में शामिल करने की जिद छोड़ दी। लेकिन बडाले ने शेन वॉर्न को इस बात के लिए मनाया की कम से कम वे आसिफ को डग आउट में टीम की जर्सी पहन कर बैठने दे। इस बात पर भी शेन वॉर्न में साफतौर पर बताया की डग आउट काफी छोटा है।

जिसके चलते शेन ये नही चाहते थे, की आसिफ वहां पर बैठे क्योंकि ऐसा लगेगा की इसे फेवर किया जा रहा है। जिसके बाद मनोज ने ठीक है कहा और पूरे मसले को वही निपटा दिया।