Home Cricket ‘मैं उमरान मलिक जितनी तेज गेंद नही डाल सकता, लेकिन वक़्त आने...

‘मैं उमरान मलिक जितनी तेज गेंद नही डाल सकता, लेकिन वक़्त आने पर 140 KM की स्पीड से फेंक सकता हूं’

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच 5 मैचों की टी20 सीरीज खेली जा रही है। जो की बेहद रोमांचक मोड़ पर पहुंच चुकी है। इस सीरीज के 3 मुकाबले खेले जा चुके है। और साउथ अफ्रीका दो और भारत 1 मुकाबला जीत चुकी है।

अब किसी भी तरह भारत को बाकी के दोनो मुकाबले जीतना जरूरी है, तभी भारतीय टीम इस सीरीज को अपने नाम कर पाएगी। और अगर एक हार भी भारत के नसीब में आई तो इस सीरीज से बाहर हाथ धो बैठेगा।

देखना काफी अहम होगा, की राजकोट में खेले जाने वाले चौथे मुकाबले में दोनो में से कौन सी टीम बाजी मारती है।

बताना चाहेंगे, की राजकोट में होने वाले मैच के पहले एक चैनल से बातचीत के दौरान हर्षल पटेल ने बहुत सी बात का खुलासा किया, और बहुत सी गहरी बातो की जानकारी दी।

हर्षल ने बताया, की उनके पास एक्सप्रेस पेस नहीं है। लेकिन उन्हे अपने वेरिएशन पर पूरा भरोसा है। जहां स्लोअर डिलीवरी उनकी सबसे बड़ी ताकत है।

जहां विशाखापत्तनम वाले मैच में हर्षल ने सही लाइन और लेंथ का उपयोग किया था। वहां वेरियोशियोज की उनकी सबसे बड़ी मजबूती है।

बता दे, की हर्षल ने पिछले साल नवंबर में क्रिकेट में डेब्यू किया था। इस दौरान वे बेंगलुरु टीम के स्टार गेंदबाज भी साबित हुए। वही हर्षल में टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में भी 11 मैचों में 17 विकेट हासिल कर लिए है।

गौरतलब है कि पटेल को ज्यादा खाती है जहां उसमें वे अपने वेरिएशन से विपक्षी को परेशान करने में सफल रहते हैं वही आपको बता दें कि भारत और दक्षिण अफ्रीका के पहले मुकाबले में कोटा के मैदान पर हर्षल की जमकर कुटाई हुई थी।

हर्षल का कहना है, की मैं उमरान की तरह तेज गेंद नहीं डाल सकता लेकिन मैं 140 किमी की रफ्तार से गेंद फेक सकता हूं और अपनी टीम को मदद भी कर सकता हूं।

आईपीएल में मैं 2 साल से गेंदबाजी कर रहा हूं जहां अगर आप अधिक खेलते हो तो विपक्षी आपके कमजोर और ताकत को भांप लेता है।

बतौर गेंदबाज मुझे बल्लेबाजों से एक कदम आगे होकर चलना पड़ता है। दवाब वाले मैचों में चीज़े आपको अपने प्लान के मुताबिक एक्जीक्यूट करनी होती है। और पूरे विश्वास के साथ गेंदबाजी में ध्यान देना होता है।

मैं अपना सारा ध्यान इस पर लगाया हूं, की मुझे अपने सही समय पर ही सही गेंद फेकना है। मेरा सारा ध्यान स्किल को निखारने में लगा रहता है।

जहां दिल्ली की पिच गेंदबाजो के लिए बेहद खराब है, वही बल्लेबाज़ों के लिए ये पिच बहुत अच्छी हैं।

आगे हर्षल ने कहा, की हमारे पास गेंदबाजी के बहुत से विकल्प मौजूद है, जो किसी भी प्रकार की पिच पर गेंदबाजी करना जानते है।

बता दे, की राजकोट के मैदान पर साउथ अफ्रीका इस सीरीज को अपने नाम करने आएगी, वही भारत इस सीरीज में बराबरी करने के उद्देश से मैदान खेलते नजर आयेगे।