Home Cricket भुवनेश्वर कुमार बने ‘मैन ऑफ द सीरीज’, कोच को नजरअंदाज कर इन्हें...

भुवनेश्वर कुमार बने ‘मैन ऑफ द सीरीज’, कोच को नजरअंदाज कर इन्हें दिया श्रेय !

भारत और साउथ अफ्रीका के बीच रविवार को बेंगलुरु के एम चेन्नस्वामी स्टेडियम में टी20 सीरीज का आखरी पांचवा और निर्णायक मुकाबला खेला गया। जहां बारिश के कहर के चलते इस मुकाबले को रद्द होकर सीरीज को 2.2 से ड्रॉ करना पड़ा। और सीरीज का कप दोनो कप्तानों को दे दिया गया।

मैच शुरू होने के पहले बारिश शुरू हो गई, बारिश के रुकते ही साउथ अफ्रीका के कप्तान केशव महाराजा ने टॉस जीतकर फील्डिंग का फैसला किया। पहले बारिश के चलते मैच देर से शुरू होने के चलते 19.19 ओवरों कर दिया गया।

इसके बाद 3.3 ओवर खेलने के बाद बारिश एक बार फिर से आई और अपना कहर बरसाया। जहां इस समय तक मुकाबला 27/2 तक पहुंच गया था। भारत की तरफ से क्रीज पर ऋषभ और श्रेयस अय्यर मौजूद थे। जिसके बाद बारिश की वजह से मैच को दुबारा शुरू नही और इसे ड्रॉ घोषित कर दिया गया।

भारतीय टीम के दिग्गज बल्लेबाज ईशान किशन और ऋतुराज आज ज्यादा देर तक क्रीज पर नही रह पाए और जल्दी आउट होकर पवेलियन चले गए। हालाकि ईशान किशन ने मैच की शुरुवात काफी अलग तरीके से की और पहले ही ओवर में 2 छक्के लगाकर ओवर को 16 रनो का बना दिया।

लेकिन स्लो डिलीवरी के चलते वे अपना विकेट गवा बैठे। जहां पहले ओवर में ईशान ने दो धुआधार छक्के लगाए वही अगले ओवर में लुंगी नगीडी ने अपनी स्लोअर गेंद से उनका विकेट चटका दिया।

इसके बाद ऋतुराज गायकवाड को भी लूंगी नगीदी ने ही अपनी स्लोअर गेंद का शिकार बनाया और ऋतुराज भी मात्र 10 रन बनाकर पवेलियन जाते हुए दिखे।

बाद में क्रीज पर श्रेयस अय्यर और ऋषभ पंत आए। और श्रेयस अय्यर 0 पर और ऋषभ 1 रन बनाकर खेल रहे थे लेकिन बारिश ने फिर से अपना प्रभाव दिखाया और मैच को बीच में ही रोकना पड़ा।

बता दे, की इस पूरी सीरीज में भारतीय टीम ने अपनी प्लेइंग इलेवन में कोई बदलाव नहीं किया। पांचवे मैच में भी भारतीय टीम उसी प्लेइंग इलेवन के साथ मैदान में उतरी। वही दूसरी ओर साउथ अफ्रीका के कप्तान टेंबा बावुमा के ना होने पर टीम की कप्तानी केशव महाराजा को सौंपी गई। केशव ने अपनी कप्तानी के चलते टीम में 3 बड़े बदलाव किए। इस बार टीम में कागिसो की भी वापसी हो चुकी थी।

मैन ऑफ द सीरीज चुने जाने के बाद भुवनेश्वर ने कहा, की वास्तव में गर्व है। मैं अच्छा महसूस कर रहा हूँ, बॉडी ठीक लग रही है लेकिन मैं इसके बारे में ज्यादा अधिक बात नहीं करना चाहता। मैं सिर्फ शारीरिक रूप से और अपनी गेंदबाजी से मजबूत होने पर ध्यान देना चाहता हूं।

अधिकतर मैं शीर्ष में दो और अंत में दो ओवर गेंदबाजी करता हूं। सीनियर होने के नाते मैं सोचता हूं कि युवाओं की मदद कैसे करूं।

में भाग्यशाली हूं, की कप्तान ने मुझे वो करने की पूरी आजादी दी जो मैं करना चाहता था। और इसके लिए मैं उन्हे दिल से धन्यवाद देना चाहता हूं। ये सीरीज कई मायनों में खास रही। भुवनेश्वर कुमार ने इस सीरीज में 6 विकेट अपने नाम किए जिसमे चलते उन्हें मैन ऑफ द सीरीज के अवार्ड से सम्मानित किया गया।

खैर दोस्तो अब ये सीरीज 2.2 से ड्रॉ घोषित हो चुकी है। इसके बाद अब भारत को इंग्लैंड से आखरी टेस्ट मुकाबला खेलना है, जिसके लिए भारत चाहेगी की मुकाबला उनके नाम हो जाए। और इसके किए टीम को काफी मेहनत के साथ मैदान में उतरना पड़ेगा।